शर्मनाक: चाची-भतीजे के उतरवाए कपड़े, फिर शुद्धिकरण के नाम पर की अमानवीयता

पुलिस ने दस दिन बाद दर्ज किया केस
सीकर, बिच्छू डॉट कॉम।
राजस्थान के सीकर जिले में खाप पंचायत के एक शर्मनाक आदेश पर चाची और भतीजे को अमानवीयता से गुजरना पड़ा। पंचायत ने दोनों के कपड़े उतरवाए और करीब 400 लोगों के सामने नंगे नहलाया गया। उससे भी शर्मनाक बात यह है कि पुलिस को घटना के बारे में 11 दिन बाद उस समय पता चला, जब अखिल राजस्थान सांसी समाज सुधार एवं विकास न्यास के प्रदेश अध्यक्ष सवाई सिंह मालावत ने सीकर के एएसपी को इसकी लिखित शिकायत की। इसके बाद पुलिस ने 10 लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया है।
पंचायत का मनमाना फैसला, युवक पर 31 हजार एवं युवती से 22 हजार जुर्माना भी ठोका: घटना के अनुसार कुछ समय पहले सीकर जिले की नेछवा ग्राम पंचायत के सोला गांव के सांसी समाज से जुड़े और रिश्ते में चाची-भतीजा लगने वाले युवक-युवती का एक वीडियो वायरल हो गया था। वीडियो सामने आने पर खाप पंचायत के लोग इकट्ठाहुए और शुद्धिकरण के नाम पर युवक-युवती को बिना कपड़ों के सभी के सामने नहलाने का फरमान सुनाया। सजा सुनाने वाली खाप पंचायत के पंचों ने दोनों के परिवारों पर जुर्माना भी लगाया। युवक से 31 हजार रुपए और युवती के परिवार से 22 हजार रुपए वसूले गए। 21 अगस्त को गांव में हुई इस खाप पंचायत में सीकर, चूरू, झुंझुनूं और बीकानेर से पंच इकट्ठा हुए थे।
पंचों में शासकीय नौकरी से रिटायर होने वाले कर्मी भी: सजा सुनाने वाले पंचों में से एक सरकारी नौकरी से रिटायर्ड है और एक सरकारी कर्मचारी है। सीकर के एएसपी डॉक्टर देवेंद्र शर्मा का कहना है कि पीड़ितों के परिवार की सहमति से युवक और युवती को नहलाया गया है। युवती के सास-ससुर से पूछताछ की जा रही है। एसटी-एससी सेल के सीओ, लक्ष्मणगड़ सीओ और थानाधिकारी को भेजकर जांच करवाई गई है।

Related Articles