नई पहल:इंदौर में अब रोबोट मशीन करेगी चैंबरों की सफाई

रवींद्र नाट्यगृह में गांधी जयंती के अवसर पर रोबोटिक चैंबर क्लीनिंग मशीनों का प्रदर्शन किया गया।
पांचवीं बार नंबर 1 बनने की तैयारी भी शुरू कर दी है।


इंदौर, बिच्छू डॉट कॉम। सफाई में चौका लगाने के बाद इंदौर ने सफाई में पांचवीं बार नंबर 1 बनने की तैयारी भी शुरू कर दी है। छह माह में 113 बैक लेन को इतना साफ और सुंदर बना दिया है कि ये घरों के सामने की गलियों से भी ज्यादा स्वच्छ हो गई हैं। गांधी जयंती के मौके पर निगम ने इन 113 बैक लेन को आदर्श मानकर शहर की 10 हजार से ज्यादा बैक लेन को साफ करने का शुभारंभ किया। इसके साथ ही दो करोड़ की रोबोटिक चैंबर क्लीनिंग मशीनें और फोर आर गार्डन का भी उद्घाटन किया गया।
कलेक्टर मनीष सिंह ने रवींद्र नाट्यगृह में गांधी जयंती के अवसर पर वेट लैंड सफाई और सौंदर्यीकरण के साथ सीवरेज पाइप लाइन में रोबोट के माध्यम से सफाई व्यवस्था का शुभारंभ किया। कार्यक्रम में रोबोट को प्रदर्शित भी किया गया। नगर निगम आयुक्त प्रतिभा पाल ने बताया कि शहर की कॉलोनियों में बैक लेन में पहले गंदगी हुआ करती थी, लेकिन अब शहरवासियों ने ही इस गंदगी को खत्म करने का बीड़ा उठाया है, जिसमें नगर निगम इंदौर महती भूमिका अदा कर रहा है।
प्रतिभा पाल ने बताया कि नगर निगम के कर्मचारी की पाइप लाइन में उतर कर मलबा, कूड़ा करकट निकालने का काम करते थे, जिसमें दम घुटने सहित कई अन्य प्रकार की बीमारियां भी होती थीं। इन्हीं सबको ध्यान में रखकर तैयार किया हुआ रोबोट अब सीवरेज पाइप लाइन में अंडरग्राउंड 10 मीटर तक सफाई का कार्य करेगा। कलेक्टर मनीष सिंह ने नगर निगम इंदौर को बधाई देते हुए कहा कि नगर निगम इंदौर आज अच्छा कार्य कर रहा है। 20 से 30 लाख तक की रोबोटिक मशीनों से अब शहर के चैंबर साफ होंगे।
बैक लेन में इसलिए होती है गंदगी-बैक लेन में गंदगी का मुख्य कारण वे लोग हैं, जो गीला-सूखा कचरा अलग-अलग नहीं करते और कचरे को गाड़ी में डालने की बजाय अकसर चोरी-छिपे रात में बैक लेन में कचरा फेंक देते हैं। कई बार ऐसा भी हुआ कि बैक लेन में सफाई करते सफाईकर्मियों पर भी लोगों ने कचरा फेंक दिया।

Related Articles