कोरोना पॉजिटिव की अधजली लाश छोड़कर भागे तहसीलदार

Tehsildar ran away leaving corona positive's dead body

बिलासपुर, बिच्छू डॉट कॉम। कोरोना संक्रमित 85 वर्षीय कैदी की मौत के बाद शनिवार की दोपहर तोरवा मुक्तिधाम में जिला प्रशासन की देखरेख में शव को अंतिम संस्कार के लिए लाया गया। चिता में आग लगाने के 15 मिनट के भीतर तहसीलदार वहां से चले गए। लकडिय़ों में ठीक से आग नहीं लगने के कारण शव पूरी तरह नहीं जल पाया। इस बात की जानकारी होने पर आसपास के रहवासी दहशत में आ गए। कोरोना फैलने की आशंका से भीड़ मुक्तिधाम पहुंच गई। देर रात तक हंगामा चलता रहा। इसके बाद प्रशासन ने कर्मचारियों को भेजकर शव को डिस्पोज कराया। कोरोना पॉजिटिव कैदी की शुक्रवार को संभागीय कोविड हॉस्पिटल में मौत हुई थी। शनिवार को उसके अंतिम संस्कार की जिम्मेदारी बिलासपुर तहसीलदार राजकुमार साहू को दी गई। वे दोपहर करीब तीन बजे अपनी टीम व मृतक के परिजन के साथ शव लेकर तोरवा मुक्तिधाम पहुंचे। वहां आनन-फानन में शव को जलाने की तैयारी की गई। चिता में आग लगाने के 15 बाद भी सभी चले गए। जबकि लकडिय़ों में ठीक से आग नहीं लग पाई थी। ऐसे में शव पूरी तरह जल नहीं पाया। आसपास रहने वालों को इस बात का पता चला तो हड़कंप मच गया। लोग शव से कोरोना वायरस फैलने की आशंका से डर गए। उन्होंने वार्ड पार्षद मोतीलाल गंगवानी से शिकायत की। इसके बाद मुक्तिधाम के बाहर भीड़ लग गई। शाम होने तक शव नहीं जल पाया। इससे जिला प्रशासन के खिलाफ भीड़ का गुस्सा फूटने लगा। इसकी जानकारी मिलने पर तोरवा पुलिस भी मौके पर पहुंच गई। खबर फैलने के बाद जिला प्रशासन और नगर निगम के अधिकारी और कर्मचारी भी मौके पर पहुंच गए। विरोध को देखते हुए रात में टीम भेजकर शव को पूरी तरह डिस्पोज कराया गया।

Related Articles