नवाज के निशाने पर फिर फौज

इस्लामाबाद। पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ ने एक बार फिर इशारों ही इशारों में देश की ताकतवर फौज पर निशाना साधा। नवाज ने बुधवार को पार्टी कार्यकर्ताओं से बातचीत की। इस दौरान कहा कि देश की संसद और सरकार को कोई तीसरी ताकत चला रही है। नवाज का इशारा साफ तौर पर फौज की तरफ था। कुछ दिन पहले उन्होंने पार्टी नेताओं से कहा था कि वे आर्मी अफसरों से कोई मुलाकात न करें। नवाज ने एक और खुलासा किया। कहा- 2014 में आईएसआई चीफ रहे लेफ्टिनेंट जनरल जहिर उल इस्लाम ने उनसे इस्तीफा देने को कहा था। नवाज के मुताबिक, उन्होंने ऐसा करने से इनकार कर दिया था।
नवाज के निशाने पर आर्मी
नवाज जानते हैं कि इमरान खान सरकार को सेना का समर्थन है और इसीलिए वो अब तक टिकी हुई है। इसलिए, बुधवार को जब इस्लामाबाद हाईकोर्ट ने जब नवाज को लंदन से पाकिस्तान लौटने और कोर्ट के सामने पेश होने के लिए समन जारी किए तो उन्होंने इसका जवाब न देकर फौज पर निशाना साधा। कहा- लोगों ने मुझे बताया है कि हमारी संसद को कोई और ताकत चला रही है। वो ही आकर सरकार को ये बताते हैं कि संसद के एजेंडे में क्या रहेगा और कौन से बिल पास होंगे। हम अपने ही देश में गुलाम बन गए हैं।

Related Articles