छींक को ज़बरदस्ती रोकना सेहत के लिए नुकसानदायक

Forcing sneezing is harmful to health

बिच्छू डॉट कॉम। कभी-कभी कई लोग छींक को जबरदस्ती रोकने की कोशिश करते है, या फिर उस वक्त अपना नाक दबा लेते है। चिकित्सकों के अनुसार ऐसा करना सेहत के लिए नुकसानदायक होता है। छींक के दौरान नाक और मुंह से जो हवा निकलती है उसकी गति 100 मील प्रति घंटे की होती है।

ऐसे में उसे जबरन रोकने से नाक की कार्टिलेज में फैक्चर होने, नाक से खून आने, कान का पर्दे फटने, सुनाई न देने, चक्कर आने, आंखों पर दबाव पडऩे से रेटिना क्षतिग्रस्त होने और चेहरे पर सूजन आने जैसी समस्याएं उत्पन्न हो सकती हैं। इसलिए छींक आने पर नाक और मुंह के सामने रुमाल या टिशू पेपर रख सकते हैं लेकिन छींक को आने से रोकने की गलती कभी न करें।

कई बार ऐसा होता है कि छींक रोकने की वजह से आंखों की रक्त वाहिकाएं प्रभावित हो जाती हैं। इसके अलावा गर्दन में मोच भी आ सकती है। अगर प्रभाव ज्यादा हो तो दिमाग की नसों पर भी इसका बुरा प्रभाव पड़ता है।

Related Articles