डायबिटीज का खतरा बढ़ा सकता है माउथवॉश का रोजाना इस्तेमाल

 माउथवॉश

बिच्छू डाॅट कॉम। अगर दांतों की सेहत बनाए रखने के लिए आप ब्रश करने के बाद नियमित तौर पर ल‍िक्विड माउथवॉश का इस्तेमाल करते हैं तो सतर्क हो जाएं, अनजाने में आप अपनी सेहत के साथ खिलवाड़ कर रहे हैं। सुनकर थोड़ी हैरानी हो सकती है, पर यह सच है। माउथवॉश को लेकर डॉक्टरों का कहना है कि जरूरत पड़ने पर माउथवॉश का इस्तेमाल करने में कोई नुकसान नहीं है लेकिन बिना आवश्यकता इसका इस्तेमाल करने से आपकी सेहत को कई बड़े नुकसान हो सकते हैं। आइए जानते हैं कैसे।

‘क्वीन मैरी विश्वविद्यालय’ में एक विशेष ब्रांड के एंटीसेप्टिक माउथवॉश पर अध्ययन किया गया था। रिसर्च में पाया गया कि माउथवॉश का दैनिक प्रयोग हार्ट अटैक का खतरा सात प्रतिशत, स्ट्रोक का खतरा 10 प्रतिशत और ब्लड प्रेशर का खतरा 3.5 यूनिट तक बढ़ा देता है। माउथवॉश में मौजूद केमिकल बैड बैक्टीरिया के साथ-साथ गुड बैक्टीरिया को भी मार देते हैं, जिससे यह खतरा और बढ़ जाता है।

बढ़ सकता है डायबिटीज का खतरा
एक रिपोर्ट में यह दावा किया गया है कि रोजाना दिन में कम से कम 2 बार माउथवॉश का इस्तेमाल करने वाले लोगों में दूसरे लोगों के मुकाबले डायबिटीज का खतरा 55 फीसदी तक बढ़ जाता है।

मुंह को बनाता है शुष्क
अत्यधिक मात्रा में एल्कोहल वाले माउथवॉश का इस्तेमाल करने से आपका मुंह शुष्क हो जाता है। जिससे कैविटी के साथ सांस से बदबू आने की समस्या हो सकती है।

मुंह में छालों की समस्‍या
माउथवॉश में उच्च मात्रा में एल्कोहल होने के साथ एंटीबैक्टीरियल गुण होते हैं जो मुंह के अंदर टिशू में दर्द कर सकते हैं। इसलिए एल्कोहल बेस्ड माउशवॉश का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए। इससे मुंह में छाले भी हो सकते हैं।

स्वाद का अहसास करने वाला तंत्र कमजोर
रसायनों के प्रयोग से मुंह के अंदर स्वाद का अहसास करने वाला तंत्र कमजोर हो सकता है, दांतों पर भूरे रंग के धब्बे पड़ सकते हैं। एलर्जी हो सकती है और शरीर को लाभ पहुंचाने वाले बैक्टीरिया भी इसके प्रयोग से खत्म हो सकते हैं।

सलाह
यदि किसी कारणवश आप ब्रश करने के बाद माउथवॉश का इस्तेमाल करना ही चाहते हैं तो पहले अपने डॉक्टर से सलाह जरूर लें। उनके द्वारा बताए गए माउथवॉश को ही प्रयोग में लाएं। डॉक्टर की सलाह के बिना इस्तेमाल किया गया माउथवॉश आपके मुंह और दांतों दोनों को नुकसान पहुंचा सकता है।

Related Articles