जब हेमा मालिनी से शादी के लिए धर्मेन्द्र बन गए थे दिलावर खान

16 अक्टूबर, 1948 को तमिलनाडु के अम्मानकुडी नामक स्थान में जन्मीं हेमा मालिनी की शिक्षा-दीक्षा चेन्नई के आंध्र महिला सभा में हुई

मुम्बई, बिच्छू डॉट कॉम। बॉलीवुड की ‘ड्रीमगर्ल’ हेमा मालिनी शुक्रवार को अपना जन्मदिन सेलिब्रेट कर रही हैं। 16 अक्टूबर, 1948 को तमिलनाडु के अम्मानकुडी नामक स्थान में जन्मीं हेमा मालिनी की शिक्षा-दीक्षा चेन्नई के आंध्र महिला सभा में हुई। हेमा मालिनी के पिता वीएसआर चक्रवर्ती तमिल फिल्मों के निर्माता थे। हेमा मालिनी ने सबसे पहले 1961 में एक तेलगु फिल्म ‘टपांडव वनवासन’ में नर्तकी का किरदार निभाया था। वहीं हिंदी सिनेमाजगत में हेमा मालिनी ने फिल्म सपनों का ‘सौदागर’ (1968) से एंट्री की थी। इस फिल्म में उनके साथ मशहूर अभिनेता राजकपूर थे। राजकपूर ने हेमा मालिनी के लिए कहा था-एक दिन ये लड़की सिनेमा की बहुत बड़ी स्टार बनेगी।
खबरों की मानें तो महज चौदह साल की उम्र से ही हेमा के घर पर फिल्म निर्माता दस्तक देने लगे थे। यही नहीं उनका फोटो सेशन भी साड़ी में किया गया ताकि वो अपनी उम्र से बड़ी दिखाई दे सकें। हेमा मालिनी इतनी खूबसूरत थीं कि बॉलीवुड अभिनेता जितेंद्र और संजीव कुमार समेत कई और सितारे हेमा मालिनी के दीवाने थे। लेकिन हेमा मालिनी का दिल धर्मेंद्र पर आ गया था।

हेमा मालिनी से शादी करने से पहले अभिनेता धर्मेंद्र ने शर्त रखी थी कि वो शादी के बाद अपनी पहली पत्नी प्रकाश, ब’चों और परिवार को नहीं छोड़ेंगे। धर्मेंद्र के प्यार में दीवानी हेमा मालिनी ने उनकी ये शर्त भी मान ली। यहां तक की दूसरी शादी करने के लिए दोनों ने मुस्लिम धर्म कबूल कर लिया था. मुस्लिम बने धर्मेंद्र ने अपना नाम दिलावर खान रखा था। दोनों ने 1980 में शादी की और उनकी दो बेटियां ईशा एवं आहना हैं। सिनेमाई करियर में हेमा मालिनी ने एक से बढ़कर एक फिल्में दी हैं जिनमें ‘सीता और गीता’, ‘प्रेम नगर’, ‘अमीर गरीब’, ‘शोले’, ‘महबूबा चरस’, ‘ड्रीम गर्ल’, ‘किनारा’,’त्रिशूल’ जैसे नाम शामिल हैं।

Related Articles