दिवालिया होने की ओर बढ़ा धनलक्ष्मी बैंक

मुंबई, बिच्छू डॉट कॉम। कोरोना काल में एक और बैंक दिवालिया होने की ओर बढ़ रहा है। इससे पहले पीएमसी बैंक और दूसरे बैंक दिवालिया हो चुके हैं। कहा जा रहा है कि धनलक्ष्मी बैंक के शुद्ध लाभ में 69 प्रतिशत की कमी आई है जो 6.09 करोड़ रुपए जून तिमाही में रहा है। एक साल पहले इसी तिमाही में यह 19.84 करोड़ रुपए था। इसी साल फरवरी में सुनील गुरबख्शानी धनलक्ष्मी बैंक के एमडी एवं सीईओ बने थे। अब धनलक्ष्मी बैंक के एमडी एवं सीईओ सुनील गुरबख्शानी के खिलाफ बैंक के 90 प्रतिशत शेयर धारकों ने वोटिंग की है। बुधवार को बैंक की एजीएम में शेयर धारकों ने पक्षपात का आरोप लगाया। शेयर धारकों ने कहा कि नए एमडी उत्तर भारतीय निवेशकों का पक्ष लेते हैं। हालांकि शेयर धारकों ने अन्य नियुक्तियों के पक्ष में वोटिंग की है।
एक्सिस बैंक से आए थे नए एमडी
बता दें कि गुरबख्शानी फरवरी 2020 में बैंक के एमडी बने हैं। इससे पहले वे एक्सिस बैंक में थे। उससे पहले स्टेट बैंक ऑफ बिकानेर में थे। हालांकि आरबीआई द्वारा नियुक्त किसी सीईओ को हटाने की घटना बहुत कम होती है। इस मामले में शेयर धारकों ने इसे मुद्दा बना लिया है। हाल में बैंक कर्मचारी यूनियन एआईबीईए ने आरबीआई को लिखा था कि वह बैंक में हस्तक्षेप करे।

Related Articles