भारत में दुनिया का सबसे बड़ा टीकाकरण अभियान शुरू

नई दिल्ली, बिच्छू डॉट कॉम। कोरोना वायरस के खिलाफ तकरीबन साल भर से चल रही लड़ाई में निर्णायक कदम बढ़ाते हुए भारत ने शनिवार को दुनिया के सबसे बड़े टीकाकरण अभियान का आगाज किया। पहले दिन देश के तीन लाख स्वास्थ्य कर्मचारियों को खुराक दी जाएगी। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सुबह 10:30 बजे वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग से सभी राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों के मुख्यमंत्रियों और स्वास्थ्य मंत्रियों को संबोधित करते हुए टीकाकरण का शुभारंभ किया। उन्होंने कोविन वेबसाइट और एप भी लॉन्च किया। हालांकि, आम लोग टीकाकरण के लिए मार्च से कोविन एप पर अपना पंजीकरण करा सकेंंगे।
3006 टीकाकरण केंद्र बनाए गए
पूरे देश में एक साथ टीकाकरण अभियान की शुरुआत की गई है और सभी राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों में इसके लिए कुल 3006 टीकाकरण केंद्र बनाए गए हैं। राजस्थान में जयपुर के सवाई मान सिंह मेडिकल कॉलेज के प्रधानाचार्य सुधीर भंडारी को सबसे पहले टीके की खुराक दी गई जबकि मध्य प्रदेश में एक अस्पताल के सुरक्षा गार्ड और एक सहायक समेत अन्य लोग सबसे पहले टीका लेने वालों में शामिल रहे।
हर केंद्र पर 100 लाभार्थियों को टीका
देशभर के 2,934 केंद्रों पर टीके लगेंगे, जो वर्चुअल रूप से जुड़े रहेंगे। उद्घाटन के दिन प्रत्येक केंद्र पर करीब 100 लाभार्थियों को टीका लगाया जाएगा। इस दौरान सरकारी और निजी दोनों क्षेत्रों के स्वास्थ्यकर्मियों को टीका लगाया जाएगा। यह डिजिटल प्लेटफॉर्म, टीकाकरण सत्रों के संचालन के दौरान सभी स्तरों के कार्यक्रम प्रबंधकों की सहायता करेगा।
इन्हें लगेगा
-18 वर्ष से कम आयु और स्तनपान कराने वाली महिलाओं को टीका नहीं
-गर्भवती महिलाएं हैं या फिर जिन्हें अपनी गर्भावस्था के बारे में नहीं पता है, उन्हें भी टीका नहीं
-तीन माह से नियंत्रित रक्तचाप और मधुमेह रोगियों को नहीं मिलेगा टीका
इन्हें अभी नहीं लगेगा
-मधुमेह, रक्तचाप, दिल या किडनी से जुड़ी बीमारी अनियंत्रित स्थिति में है तो उन्हें टीका सबसे पहले
-प्लाज्मा लेने वालों को टीके के लिए कम से कम दो माह इंतजार जरूरी

  • गंभीर रोगियों के अस्पताल से छुट्टी मिलने के एक से दो माह बाद ही टीका देना जरूरी
    खून के बहने और थक्के पर खास ध्यान
    जिन लोगों को खून के बहने या थक्का जमने से संबंधित परेशानी है उन्हें कोरोना का टीका देने से पहले पूरी सावधानी बरतनी होगी। इन रोगियों में टीका का असर तेजी से दिखाई देने की आशंका है। ऐसे में जरूरी है कि टीकाकरण से पहले यह पता लगा लिया जाए कि उक्त व्यक्ति को इस तरह की कोई दिक्कत तो नहीं है।
    सबसे पहले इन लोगों को टीका लगेगा
    आज से शुरू हो रहे पहले फेज में एक करोड़ हेल्थकेयर वर्कर्स और 2 करोड़ फ्रंटलाइन वर्कर्स को टीके फ्री में लगाए जाएंगे। हेल्थकेयर कर्मचारियों में डॉक्टर, नर्सेस, जैसे स्वास्थ्य कामों से जुड़े लोग हैं। वहीं, फ्रंटलाइन कर्मचारियों में स्वच्छता कर्मचारी, पुलिस, होमगार्ड के जवान और सेना के जवान शामिल हैं। दूसरे फेज में अगस्त तक 50 साल से ज्यादा उम्र के लोगों और गंभीर बीमारियों से जूझ रहे 50 साल से कम उम्र के लोगों को वैक्सीन लगाई जाएगी। इस तरह हाईरिस्क वाले करीब 27 करोड़ लोगों को टीका लगाया जाएगा।

Related Articles