उमरिया में घुसे जंगली हाथी, कई फसलें की तबाह

जंगली हाथियों ने अब बांधवगढ़ के जंगल को छोड़कर उमरिया शहर में दस्तक देना शुरू कर दिया है।



उमरिया, बिच्छू डॉट कॉम।
जंगली हाथियों ने अब बांधवगढ़ के जंगल को छोड़कर उमरिया शहर में प्रवेश करना शुरू किया है। बीती रात हाथियों ने शहर से लगे ग्राम पिपरिया में कई किसानों की फसलों को तबाह कर दिया। एक अनुमान है कि उमरिया नगर और पिपरिया ग्राम के किसानों की लगभग 50 एकड़ जमीन पर लगी फसल को हाथियों ने बर्बाद कर दिया। रात में जिला मुख्यालय के वार्ड नम्बर 2 के कई किसानों के खेतों को हाथियों ने तबाह कर दिया। मुख्यालय से लगभग 5 किलोमीटर पर स्थित ग्राम पिपरिया के दर्जनों खेत भी हाथियों ने उजाड़ा डाला। इस घटना के बाद किसानों ने खेत और अपनी सुरक्षा के लिए सवाल खड़े किए हैं।
ग्राम बड़वार से घुसे थे हाथी, 500 मीटर दूर बचा था नगर: बताया गया है कि यह हाथी ग्राम बड़वार के रास्ते पिपरिया तक पहुंच गए थे और उसके बाद यह हाथी उमरिया नगर के वार्ड नंबर 2 तक आ गए। अगर यह हाथी 500 मीटर का फासला और तय कर लेते तो शहर के अंदर प्रवेश कर चुके होते। बड़ा सवाल यह है कि इन हाथियों के यहां तक पहुंचने के दौरान वन विभाग को किसी भी तरह के खतरे का अहसास क्यों नहीं हुआ? क्या वन विभाग हाथियों की निगरानी के नाम पर सिर्फ बातें बना रहा है?
बढ़ी संख्या में हाथी: शहर तक पहुंचे हाथियों की संख्या लगभग 32 बताई गई है। कुउछ लोगों ने हाथियों का वीडियो भी बनाया है, जिसमें हाथी दिखाई पड़ रहे हैं। सोमवार की सुबह तक यह हाथी बिलिकाप स्कूल के पास मौजूद थे।
वन विभाग की टीम पहुंची-
जंगली हाथियों के ग्राम पिपरिया और नगर के वार्ड नंबर 2 तक पहुंचने की जानकारी मिलने के बाद वन विभाग के अधिकारी सक्रिय हुए और हाथियों को खदेडऩे के लिए प्रयास शुरू कर दिया। पटाखा फोड़कर हाथियों को खदेडऩे की कोशिश शुरू की गई। इस दौरान वन विभाग की टीम मौके पर ही मौजूद थी।
इनकी फसल को पहुंचाया नुकसान-
जंगली हाथियों ने पिपरिया मे बलराम कोल, मिठाईलाल यादव, पुन्नू कोल, लुब्बा कोल, प्रेमलाल कोल, राजेन्द्र चौधरी, त्रिवेणी लोनी,नरेश लोनी सहित कई किसानों की फसलें तहस-नहस कर दी। जबकि शहर के वार्ड नंबर दो लालपुर मे धनीलाल राठौर, लालमन सिंह, रमेश, मोलई कोल, धरमपाल सिंह आदि के खेतों की फसल को चौपट कर दिया है।

Related Articles