विजयादशमी की 129 साल पुरानी परंपरा कुछ फीकी रहेगी: भोपाल में पारंपरिक चल समारोह सिर्फ तीन ट्राले पर निकलेगा

200 लोग ही शामिल होंगे; लोगों को जागरुक करने रावण भी मास्क पहनेगा
भोपाल, बिच्छू डॉट कॉम। भोपाल में विजयादशमी पर 129 साल से निकाले जाने वाला चल समारोह इस बार कुछ फीका रहेगा। अब तक जहां इसमें 25 ट्राले और 10 हजार से अधिक लोग शामिल होते थे, वहीं इस बार सिर्फ 3 ट्राले और 200 लोग ही शामिल होंगे। यह निर्णय श्री हिन्दू उत्सव समिति भोपाल ने शासन से बात करने के बाद रविवार दोपहर लिया है। यह चल समारोह में सोमवार दोपहर 2 बजे के बाद निकाला जाएगा। श्री हिन्दू उत्सव समिति भोपाल के अध्यक्ष कैलाश बेगवानी व मीडिया प्रभारी राजेश जैन ने बताया बुराई पर अच्छाई की विजय का प्रतीक दशहरा महोत्सव सोमवार को पूरे भोपाल में धूमधाम से मनाया जाएगा। इस अवसर पर श्री हिन्दू उत्सव समिति भोपाल के तत्वाधान में सोमवार दोपहर 2 बजे से परंपारागत चल समारोह निकाला जाएगा। कोरोना महामारी के कारण इस वर्ष शासन की गाइड लाईन का पालन करते हुए यह चल समारोह प्रतीकात्मक रूप से निकला जाएगा। यह श्री बांके बिहारी के मंदिर मारवाडी रोड से प्रारम्भ होकर यूनानी शफाखाना, सुल्तानिया रोड, इब्राहिमपुरा, सुभाष चौक, लोहा बाजार, जुमेराती, घोड़ा नक्कास, बस स्टैंड होता हुआ, छोला दशहरा मैदान पहुंचेगा। शाम 7 बजे रावण दहन का कार्यक्रम सम्पन्न होगा। चल समारोह का मुख्य आकर्षण रावण पर मास्क लगाकर लोगों को कोरोना महामारी से बचाव का संदेश देना होगा। समिति द्वारा चल समारोह में 5 हजार मास्क भी वितरित किए जाएंगे। इसके पूर्व समिति के पदाधिकारियों ने शनिवार को नलखेड़ा पहुंचकर मां भगवती के दर्शन कर दशहरा महोत्सव बिना किसी विघन के संपन्न करने के लिए प्रार्थना की।

Related Articles