शिवराज जी आपके लजऊ ठीकरे ने फिर सरकार को लजवाया

Shivraj ji, your lazy friend has again made the government ashamed

विवादों के मंत्री बन चुके हैं शिव के विजय शाह
वन मंत्री विजय शाह से राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ हमेशा रहा नाराज, हालिया घटना क्रम से भी नाखुश

भोपाल/राकेश व्यास/बिच्छू डॉट कॉम। मध्यप्रदेश सरकार के वरिष्ठ मंत्री विजय शाह बीते एक दशक से अपने काम की वजह से कम बल्कि विवादों की वजह से अधिक चर्चा में रहते हैं। लगातार अपने बयानों व कदमों की वजह से उनकी पहचान अब प्रदेश में विवादों के मंत्री के रुप में हो गई है। उन्हें मप्र की राजनीति में एक ऐसे नेता के रुप में जाना जाता है जो मौके – बे मौकों पर विवादों वाले बयान देते रहते हैं। मालवा में एक कहावत है उसके अनुसार जो बर्तन टूट -फूट जाते हैं उन्हें लजऊ ठीकरा कहा जाता है। शाह भी भाजपा सरकार में ऐसे ही मंत्री के रुप में सामने आ चुके हैं।
अब वे एक बार फिर चर्चा में हैं प्रसिद्ध अभिनेत्री विद्या बालन की वजह से। दरअसल इन दिनों प्रदेश के बालाघाट में शेरनी फिल्म की शूटिंग चल रही है। इसमें अभिनेत्री विद्या बालन मुख्य रोल मे हैं। यह शूटिंग वन विभाग के इलाके में चल रही है। इसके लिए बाकायदा सरकार से अनुमति भी ली गई है। शूटिंग के बीच शाह ने विद्या से मिलने की इच्छा जाहिर की। इस मुलाकात के लिए 8 नवंबर को सुबह 11 से 12 बजे तक का समय तय हुआ। इसके बाद शाम चार बजे वन मंत्री को महाराष्ट्र के ताडोबा अंधारी टाइगर रिजर्व जाना था। वहीं उन्हें रात रुकना था, लेकिन वे भरवेली खदान के रेस्ट हाउस में रुक गए। शाह तय समय से पांच घंटे बाद पहुंचने के बाद भी उनकी मुलाकात शाम विद्या से कराई गई। इसी दौरान उनके द्वारा साथ में डिनर की इच्छा जताई गई। चूंकि विद्या बालन महाराष्ट्र के गोंदिया में रुकी हुई थीं, लिहाजा उन्होंने डिनर से इंकार कर दिया। इसके चलते दूसरे दिन जब फिल्म से जुड़े लोग रोज की तरह वहां पहुंचे तो बालाघाट साउथ के डीएफओ जीके बरकड़े ने प्रोडक्शन यूनिट की गाडिय़ां शूटिंग स्थल पर जाने से रोक दीं। अचानक वन विभाग के इस रवैया की जानकारी बड़े अफसरों को दी गई तब कहीं जाकर वाहनों को जाने दिया गया। इसके बाद शूटिंग शुरू हो सकी।

बयानों से चर्चित विजय शाह पर एक नजर
विजय शाह ने भाजपा के छात्र संगठन अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद से राजनीति शुरू की थी और वे पहली बार 1990 में खंडवा जिले के हरसूद विधानसभा क्षेत्र से विधायक चुने गए थे। 2003 में बारहवीं विधानसभा के चुनाव में भी उन्होंने इसी सीट से चौथी बार जीत दर्ज की। कुंवर विजय शाह पहली बार मध्यप्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री उमा भारती के मंत्रिमंडल में 28 जून 2004 को मंत्री बने थे। वे 27 अगस्त 2004 में भी बाबूलाल गौर कैबिनेट में मंत्री बनाए गए। 4 दिसंबर 2005 को शिवराजसिंह चौहान के मंत्रिमंडल में भी उन्हें मंत्री के रूप में शामिल किया गया था। 28 अक्टूबर 2009 और फिर दिसंबर 2013 में उन्हें एक बार फिर से शिवराजसिंह चौहान के मंत्रिमंडल में कैबिनेट मंत्री के रूप शामिल किया गया। 2019 में विधानसभा चुनाव के पहले वे एमपी के स्कूल शिक्षा मंत्री भी रह चुके हैं और फिलहाल वे वन मंत्री हैं।

विवादों के चलते देना पड़ा था मंत्री पद से इस्तीफा
पूर्व की सरकार में मंत्री रहते अपने एक आपत्तिजनक बयान देने के बाद आलोचना होने की वजह से विजय शाह को तत्कालीन आदिम जाति कल्याण मंत्री के पद से इस्तीफा देना पड़ा था। यही बयान उन्होंने झाबुआ में एक कार्यक्रम के दौरान मंच पर मौजूद जनजातीय वर्ग की महिला नेताओं पर की थी। इस दौरान उनके द्वारा कई द्विअर्थी संवाद भी बोले गए थे। शाह ने इस दौरान मुख्यमंत्री की पत्नी पर भी टिप्पणी की थी। इसके बाद जब बयान पर हंगामा मचा तो तत्कालीन भाजपा प्रदेशाध्यक्ष नरेंद्र सिंह तोमर ने उन्हें तलब तक कर लिया था। इसके बाद ही उन्हें इस्तीफा देना पड़ गया था। इसी तरह से बीते साल भी उनके एक बयान की वजह से लोकसभा चुनाव के दौरान मतदान के समय विवाद पैदा हो गया था। दरअसल 6 मई को जब उनके गृह क्षेत्र हरसूद क्षेत्र में पांचवे चरण का मतदान हो रहा था, तभी विजय शाह अपनी पत्नी भावना शाह के साथ आशापुर मतदान केंद्र पर वोट डालने पहुंचे। उन्होंने वहां कहा कि मध्यप्रदेश की कमलनाथ सरकार अब गिर जायगी जिस से कांग्रेस कार्यकर्ता नाराज हो गए। इससे गुस्साए कांग्रेस कार्यकर्ता और मंत्री विजय शाह के बीच तीखी बहस हुई, तो उनकी पत्नी भावना शाह ने बीचबचाव कर शांत करवाने का प्रयास किया था।

सीसीएफ को करना पड़ा फोन
बताया जाता है कि जब इस मामले की जानकारी चीफ कंजर्वेटर आॅफ फॉरेस्ट नरेंद्र कुमार सनोडिया को मिली तो उनके द्वारा डीएफओ को फोन कर कहना पड़ा कि प्रदेश में फिल्म की शूटिंग कम ही होती है। ऐसे काम रोकोगे तो प्रदेश की बदनामी होगी। इसके बाद शूटिंग से जुडे वाहनों को जंगल में प्रवेश दिया गया।

शाह का स्पष्टीकरण
उधर, वन मंत्री शाह का इस मामले में कहना है कि डिनर का इंतजाम जिला प्रशासन ने किया था। गाडियां इसलिए रोकी गईं, क्योंकि शूटिंग के दौरान जंगल में दो जनरेटर जाते थे, लेकिन उस दिन उन्होंने जनरेटर वाली कई गाडियां जंगल में ले जाने की कोशिश की जिसे डीएफओ ने रोक दिया था।

विद्या बालन से क्षमा मांगे सरकार-भूपेन्द्र गुप्ता
मध्य प्रदेश कांग्रेस कमेटी मीडिया उपाध्यक्ष भूपेंद्र गुप्ता ने हैरानी जाहिर की कि सुविख्यात अभिनेत्री विद्या बालन द्वारा एक मंत्री के डिनर प्रस्ताव को अस्वीकार कर देने के कारण उनकी शूटिंग में बाधाएं उपस्थित की गईं। उससे मध्य प्रदेश की बदनामी हुई है। उन्होंने मुख्यमंत्री से आग्रह किया कि वे ऐसे मंत्रियों को संयम की सीख दें जो अपनी इच्छाओं को व्यक्त करने में अत्यंत अधीर होते हैं । उन्होंने कहा कि मध्य प्रदेश की साढे सात करोड़ जनता अपने संस्कारों को जानती है। उसने देश का कला नेतृत्व किया है और इस प्रदेश ने रवि शंकर जैसी प्रतिभायें देकर पूरे विश्व में सम्मान दिलाया है आज उसी प्रदेश में ऐसी अनूठी कलाकार के साथ किए गए इस व्यवहार से पूरे मध्यप्रदेश की प्रतिष्ठा धूमिल हुई है। मध्य प्रदेश की साढे सात करोड़ जनता की तरफ से मुख्यमंत्री को विद्या बालन से माफी मांगनी चाहिए और यह सुनिश्चित करना चाहिए कि भविष्य में इस तरह की किसी भी सृजनशील गतिविधि में अपनी शक्ति दिखाने के लिए बाधाएं उपस्थित नहीं की जाएंगी।

वन मंत्री को मंत्रिमंडल से बाहर करें
प्रदेश को शर्मशार करने वाले वनमंत्री को मंत्रिमंडल से बाहर करे मुख्यमंत्री। प्रदेश में फिल्मों की शूटिंग को बढ़ावा देकर कमलनाथ सरकार ने प्रदेश की छवि को विश्व स्तर पर पहुंचाने का काम किया था, वही शिवराज सरकार के वनमंत्री विजय शाह मध्यप्रदेश की छवि खराब करने का काम कर रहे है। फिल्म अभिनेत्री विद्या बालन के डिनर के लिये मना करने पर पूर्व से ही अपने आचरण के लिये चर्चित वनमंत्री के आदेश पर फिल्म की शूटिंग में बाधा पहुंचाने का कार्य किया गया। आखिर मंत्री जी अभिनेत्री के साथ डिनर क्यों करना चाहते थे ? इस तरह के कृत्यों से प्रदेश की छवि खराब हुई है।

डांसर के साथ हो चुका है वीडियो वायरल
तत्कालीन स्कूल शिक्षा मंत्री रहते विजय शाह का डांसर के साथ नृत्य करते हुए उनका एक वीडियो वायरल हुआ था। हालांकि इसे उनके द्वारा फर्जी बताते हुए सायबर सेल में शिकायत दर्ज करवाई गई थी। सोशल मीडिया पर यह वीडियो तेजी से वायरल हुआ था जिसमें महिला डांसर के साथ एक व्यक्ति डांस कर रहा है। कहा गया कि डांस करने वाले शाह हैं।

Related Articles