300 किसान संगठनों की पंचायत, कृषि कानूनों पर आर-पार की तैयारी

राष्ट्रव्यापी आंदोलन पर मंथन

नई दिल्ली, बिच्छू डॉट कॉम। कृषि कानूनों में बदलाव की मांग को लेकर किसान राष्ट्रीय स्तर पर विरोध प्रदर्शन आयोजित करने की तैयारी कर रहे हैं। इसके लिए मंगलवार को दिल्ली के रकाबगंज गुरुद्वारे में 300 से अधिक किसान संगठन बैठक कर आंदोलन की रूपरेखा को अंतिम रूप देंगे। इस बैठक में देशभर के किसान संगठनों को बुलाया गया है, जिससे आंदोलन को व्यापक रूप दिया जा सके। इसके पहले किसानों और सरकार के बीच सहमति बनाने की कोशिशें असफल साबित हुई थी। सूत्रों के मुताबिक, किसान संगठन हर प्रकार के बाजार में न्यूनतम समर्थन मूल्य को अनिवार्य करने से कम पर मानने के लिए तैयार नहीं होंगे। इसके अलावा किसान संगठन चाहतेे हैं कि कॉन्ट्रेक्ट फार्मिंग, खुले बाजार में फसलों की खरीद को अनुमति देने और आवश्यक वस्तुओं के संग्रह पर प्रतिबंध हटाने के जरिए एपीएमसी मंडियों खत्म न किया जाए।
इधर सियासी रणनीति: छत्तीसगढ़ विधानसभा का विशेष सत्र शुरू
इधर राजनीतिक रूप से भी केंद्र सरकार की घेराबंदी चल रही है। पंजाब सरकार केंद्रीय कानूनों के सापेक्ष तीन बिल पास कर चुकी है। इसी ड़ी में छत्तीसगढ़ सरकार अपने बिल पास करने जा रही है। इसी के मद्देनजर राज्य में मंगलवार से दो दिवसीय विधानसभा का विशेष सत्र बुलाया गया है। बीजेपी इन बिलों का विरोध करेगी। वहीं राज्य सरकार का कहना है कि उनके बिल पंजाब सरकार से बिल्कुल अलग होंगे। हम किसानों को अपने स्तर पर लाभ पहुंचाएंगे।

Related Articles