तीन बड़ी पेट्रो योजनाओं को बिहार से लांच करेंगे पीएम

पीएम की इस सौगात से बिहार-झारखंड के 15 जिलों को एक साथ मिलेगा फायदा मधुसूदनपुर में बना गैस बॉटलिंग प्लांट बिहार का अत्याधुनिक प्लांट है। इस प्लांट के मिलने से बिहार के अलावा झारखंड को भी लाभ मिलेगा। बिहार के 10 जिला एवं झारखंड के 5 जिलों में 275 वितरकों को सिलेंडर की आपूर्ति होगी।

नई दिल्ली/पटना, बिच्छू डॉट कॉम। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी रविवार को बिहार को 901 करोड़ की लागत वाली तीन बड़ी योजनाओं का उपहार देने जा रहे हैं। पीएम मोदी द्वारा बिहार को दिए जाने वाले इन सौगातों में से एक बांका जिला के लिए भी है। बांका जिला के बाराहाट प्रखंड के मधुसूदनपुर में भागलपुर-हंसडीहा मुख्य मार्ग पर स्थित इंडियन ऑयल के रिफिलिंग प्लांट का रविवार को पीएम उदघाटन करेंगे। इस प्लांट के खुलने से न केवल इलाके में विकास की रफ्तार तेजी से बल्कि रोजगार के अवसर भी सृजित होंगे। इस प्लांट के स्थापित होने बिहार और झरखण्ड के पन्द्रह जिले के लोग लाभान्वित होंगे।
जो चार वर्षों में बनकर तैयार हुआ प्लांट: बांका में खुलने वाले इस प्लांट से लाभान्वित होने वाले जिलों में बिहार के बांका, भागलपुर, जमुई, लखीसराय, कोसी-सीमांचल के पूर्णिया, कटिहार, अररिया, मधेपुरा समेत झरखण्ड के गोड्डा, दुमका, देवघर, साहेबगंज और पाकुड़ भी शामिल हैं। करीब तीस एकड़ में फैला यह प्लांट एक सौ तीस करोड़ की लागत से बना है, जो चार वर्षों में बनकर तैयार हुआ है। फिलहाल प्लांट में रिफिलिंग का कार्य जारी है।
मार्डन तकनीक से बने रिफिलिंग संयत्र में प्रतिदिन 30 हजार सिलिंडर होते हैं रिफिल: यह प्लांट आधुनिकतम टेक्नोलॉजी से लैस प्लांट है, जहां रोजाना 30 हजार गैस सिलिंडर की रिफिलिंग होगी। फिलहाल प्लांट अपनी पूरी क्षमता के साथ कार्य नहीं कर पा रहा है। जानकारी के अनुसार धीरे-धीरे क्षमता बढ़ेगी और आने वाले दिनों में अपनी पूरी क्षमता से प्लांट कार्य करेगी। प्लान्ट के सूत्रों के अनुसार रिफिलिंग का कार्य पूरी क्षमता के साथ नहीं हो रहा है।
अभी 50 स्थानीय लोगों को रोजगार मिला, रोजगार के अवसर सृजित होंगे: फिलहाल यहां शिफ्ट में ही कार्य होता है जिससे अधिकारियों सहित सवा सौ लोग कार्यरत हैं जिसमें करीब 50 स्थानीय लोग हैं, जो दिहाड़ी मजदूर के रूप में कार्य कर रहे हैं। आगे के दिनों में जब प्लांट अपनी पूरी क्षमता से सिलेंडर की रिफिलिंग करेगा तो और स्थानीय को रोजगार मिलने की संभावना है। प्लांट बनने के करीब एक वर्ष बाद प्रधानमंत्री के हाथों इसका उद्घाटन होना है। इस प्लांट का उद्घाटन प्रधानमंत्री वर्चुअल तरीके से क

Related Articles