दिल्ली में पायलट-सिंधिया की मुलाकात, राजस्थान में रिसोर्ट पॉलिटिक्स फिर शुरू

जयपुर, बिच्छू डॉट कॉम। राजस्थान में अशोक गहलोत सरकार को संकट में डालकर ज्योतिरादित्य सिंधिया की राह पर चलने वाले राजस्थान के उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट कुछ देर पहले दिल्ली में भाजपा नेता और राज्यसभा सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया से मुलाकात करने पहुंचे है। वहीं राजस्थान में फिर रिसोर्ट पॉलिटिक्स शुरू हो चुकी है। राजस्थान के सभी मंत्रियों और विधायकों को जयपुर बुलाया गया है। जिसके लिए मानेसर रिसोर्ट में 35 कमरे भी बुक कराए गए है।

बता दे कि सीएम और युवा डेप्युटी सीएम के बीच खींचतान की चर्चाएं, युवा नेता का दिल्ली में डेरा डालना, पार्टी के 24 विधायकों का दिल्ली से सटे प्रतिद्वंद्वी पार्टी शासित दूसरे राज्य में होटल में रुकना और कथित तौर पर पार्टी नेतृत्व के संपर्क में नहीं रहना, मुख्यमंत्री का विरोधी दल पर विधायकों की खरीद-फरोख्त का आरोप लगाना…कोरोना संकट के बीच कांग्रेस शासित राजस्थान में अचानक सियासी हलचल बहुत तेज हो चुकी है।

4 महीने पहले मध्य प्रदेश में जो कुछ हुआ और आज राजस्थान में जो कुछ हो रहा है, उनमें बहुत समानताएं हैं। तब ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कांग्रेस के 22 विधायकों का इस्तीफा कराकर कमलनाथ सरकार को गिरा दिया था। विधायकों को पहले गुडग़ांव और बाद में बेंगलुरू के होटल में ठहराया गया था। कमलनाथ के सामने तब युवा ज्योतिरादित्य सिंधिया थे तो अब गहलोत के सामने युवा डेप्युटी सीएम सचिन पायलट हैं। पायलट 3 दिनों से दिल्ली में डेरा डाले हुए हैं। दूसरी तरफ राजस्थान कांग्रेस के 24 विधायक शनिवार रात से ही गुडग़ांव के ही मानेसर में एक बड़े होटल में रुके हुए हैं। कई विधायकों के मोबाइल फोन स्विच्ड ऑफ हैं। पायलट दिल्ली में डेरा डाले हुए हैं। चर्चा तो यह भी है कि वह बीजेपी के संपर्क में हैं। इन चर्चाओं को तब और बल मिला जब शनिवार देर रात गहलोत की बुलाई बैठक में उनके समर्थक कई मंत्री शामिल नहीं हुए। पूरे सियासी घटनाक्रम पर पायलट की तरफ से अभी कोई टिप्पणी नहीं आई है।

Related Articles