न्यूज चैनल की टीआरपी स्केम का मुंबई पुलिस ने किया खुलासा, रिपब्लिक पर होगी कार्रवाई

मुंबई, बिच्छू डॉट कॉम।

मुंबई पुलिस ने न्यूज चैनलों की टीआरपी से जुड़ी हेरफेर को लेकर बड़ा खुलासा किया है। मुंबई के कमिश्नर परमबीर सिंह ने बताया कि पुलिस इस मामले की जांच में जुट गई है। इस स्कैम में रिपब्लिक भारत सहित दो अन्य चैनल के नाम शामिल हैं। उन्होंने रिपब्लिक-टीवी सहित तीन चैनलों की पहचान की, जो कथित रूप से टेलीविजन चैनलों को रेट करने के लिए बीएआरसी द्वारा उपयोग किए जाने वाले तंत्र में गड़बड़ी करने में शामिल है। परबीमर सिंह ने कहा है कि रिपब्लिक टीवी टीआरपी बढ़ाने के लिए पैसे देता था। इसके पीछे एक रैकेट है, जोकि चैनलों को टीआरपी बढ़ाने में मदद करती थी। इसमें करीब 30 से 40 हजार करोड़ का खेल किया है, जिसके आधार पर किस चैनल की क्या टीआरपी होगी और किसको कैसे एड मिलेगी।


बीएआरसी नामक संस्था है, जो टीआरपी मापती है। परमबीर सिंह ने कहा कि अलग-अलग शहरों में बौरो मीटर लगाए जाते हैं। मुंबई में भी 2 हजार बैरो मीटर लगाए गए हैं। इनको लगाने का कांट्रेक्ट हंसा नामक कंपनी को दिया गया है। हंसा के कमर्चारी मिलकर टीआरपी का खेल कर रहे थे। उन्होंने बताया कि जहां पर बैरो मीटर लगे थे, वहां पर किसी विशेष चैनल को ऑन रखिये कोई देखे या न देखे, जो अनपढ़ है उनके घर में भी इंग्लिश चैनल चालू रखे। इस मामले में 2 व्यक्तियों को अरेस्ट किया गया है। मुंबई पुलिस कमिश्नर ने बताया कि हंसा कमर्चारी कुछ चैनल से पैसे लेकर उस चैनल को चालू करवा कर रखते है। इस मामले में फक्त मराठी बॉक्स नामक रीजनल चैनल के मालिक को हिरासत में लिया गया है। हंसा नामक कंपनी टीआरपी के लिए काम करती है। इस मामले में रिपब्लिक मीडिया का नाम सामने आया है। बताया गया है कि उसने टीआरपी बढ़ाने के लिए पैसा दिया है।

इस मामले में मुंबई पुलिस रिपब्लिक के डायरेक्टर, प्रमोटर और काम करने वाले लोग जल्द ही जांच के लिए बुलाएगी। परमबीर सिंह ने कहा कि इन चैनल की बैंक काउंट डिटेल जांच की जाएगी और इनके अकाउंट को फ्रिज करने की करवाई की जाएगी। रिपब्लिक टीवी की इस मामले में संलिप्ता मिली हैं और उसके इस गुनाह की हम जांच करेंगे। जिन घरों में बौरो मीटर लगे हैं, उनको 400 से 500 रुपये दिए जाते थे।

Related Articles