मुरैना: मरने वालों की संख्या 20, डीएम और एसपी पर गिरी गाज

मुरैना, बिच्छू डॉट कॉम। मध्यप्रदेश के मुरैना जिले के दो गांवों में कथित तौर पर जहरीली शराब पीने से मरने वालों की संख्या बढ़कर मंगलवार को 20 हो गई है और गंभीर रूप से बीमार 17 लोगों का अस्पताल में इलाज चल रहा है। इस मामले पर मध्यप्रदेश  के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने एक उच्च स्तरीय बैठक बुलाई। मुरैना के जिला कलेक्टर और पुलिस अधीक्षक (एसपी) को निलंबित कर दिया गया है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने घटना को गंभीरता से लेते हुए एक उच्च स्तरीय बैठक बुलाई।शिवराज सिंह चौहान ने एक ट्वीट में मुरैना के जिला आबकारी अधिकारी को निलंबित करने की घोषणा की। चौहान ने ट्वीट किया, मुरैना की घटना बहुत दुर्भाग्यपूर्ण और दुखदाई है। मामले की जांच जारी है, लेकिन प्रथम दृष्टया सुपरविजन में लापरवाही बरतने पर जिला आबकारी अधिकारी को निलंबित किया गया है। इस बीच एक पुलिस अधिकारी को भी निलंबित किया गया है।
जांच दल भेजा
प्रदेश के गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि घटना की जांच के लिए एक दल वहां भेजा है। मिश्रा ने एक ट्वीट में कहा, मुरैना में जहरीली शराब पीने से हुई मौतों की घटना बेहद दुखद और पीड़ादायक है। इस मामले में संबंधित थाना प्रभारी और जिलाधिकारी को निलंबित कर दिया गया है। जांच के लिए अलग से एक दल भी भेजा  है। घटना के लिए जिम्मेदार कोई भी दोषी बख्शा नहीं जाएगा।
कमलनाथ ने शिवराज सरकार को घेरा
इस घटना पर प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष कमलनाथ ने भी मध्यप्रदेश की भाजपा सरकार को पर निशाने पर लिया। कमलनाथ ने ट्वीट किया, ‘शराब माफियाओं का कहर जारी। उज्जैन में 16 जान लेने के बाद अब मुरैना में शराब माफियाओं ने 20 के करीब लोगों की जान ले ली। शिवराज जी, शराब माफिया आखिर कब तक यूं ही लोगों की जान लेते रहेंगे? सरकार बीमार लोगों का समुचित इलाज करवाए और पीडि़त परिवारों की हरसंभव मदद करे।Ó इसके साथ ही पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने आरोप लगाया कि मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री (शिवराज सिंह चौहान) माफिया के खिलाफ कार्रवाई को लेकर झूठे दावे कर रहे हैं।

Related Articles