पूर्व केंद्रीय मंत्री रघुवंश प्रसाद का निधन, तीन दिन पहले ही राजद से दिया था इस्तीफा

नई दिल्ली, बिच्छू डॉट कॉम।

पूर्व केंद्रीय मंत्री रघुवंश प्रसाद का रविवार को निधन हो गया। उन्होंने दिल्ली एम्स में आखिरी सांस ली। फेफड़े में संक्रमण की वजह उन्हें भर्ती कराया गया था। 11 सिंतबर की रात को 12 बजे के आस-पास उनकी तबीयत खराब हुई और फिर उन्हें वेंटिलेटर पर रखा गया था। जून में वे कोरोना से संक्रमित हुए थे। हालांकि कोरोना से वो ठीक हो गए थे लेकिन अस्पताल से छुट्टी नहीं मिली थी। सिंतबर की शुरुआत में उन्हें फिर से कई दिक़्क़तें शुरू हुईं। वह दिल्ली के एम्स अस्पताल में भर्ती थे। उनके निधन पर पीएम मोदी, लालू यादव, बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार सहित कई नेताओं ने शोक जताया है।

लालू ने लिखा था पत्र
तीन दिन पहले ही उन्होंने एम्स से लालू यादव को पत्र लिखकर राष्‍ट्रीय जनता दल (RJD) से इस्‍तीफा दे दिया था। रघुवंश प्रसाद सिंह को भेजी गई चिट्ठी में लालू प्रसाद यादव ने लिखा था, ‘प्रिय रघुवंश बाबू, आपके द्वारा कथित तौर पर लिखी एक चिट्ठी मीडिया में चलाई जा रही है। मुझे वो विश्वास ही नहीं होता। अभी मेरे और मेरे परिवार के साथ ही राजद परिवार भी आपको स्वस्थ होकर अपने बीच देखना चाहता है। चार दशकों में हमने हर राजनीतिक, सामाजिक और यहां तक कि पारिवारिक में मिल बैठकर विचार किया है। आप जल्द स्वस्थ हों, फिर बैठ के बात करेंगे। आप कहीं नहीं जा रहे हैं। समझ लीजिए। आपका, लालू प्रसाद। रघुवंश प्रसाद सिंह साल 1977 से लगातार सियासत में रहे। वे लालू प्रसाद यादव के करीबी व उनके संकटमोचक माने जाते रहे। पार्टी में उन्‍हें दूसरा लालू भी माना जाता था। वे लगातार चार बार वैशाली से सांसद रहे। यूपीए की सरकार में मंत्री भी रहे। विपक्ष में रहते हुए वे अटल बिहारी वाजपेयी की सरकार को घेरने में सबसे आगे रहे।

लालू ने जताया दुख


रघुवंश प्रसाद सिंह ने निधन पर आरजेडी प्रमुख लालू प्रसाद यादव ने गहरा दुख जताया है। लालू प्रसाद यादव ने ट्वीट कर लिया ‘प्रिय रघुवंश बाबू! ये आपने क्या किया? मैनें परसों ही आपसे कहा था आप कहीं नहीं जा रहे है। लेकिन आप इतनी दूर चले गए। नि:शब्द हूं. दुःखी हूं. बहुत याद आएंगे।

Related Articles