शहीद धीरेंद्र त्रिपाठी को अंतिम विदाई देने पहुंचे सीएम, परिवार को एक करोड़ सम्मान निधि देने की घोषणा

जम्मू-कश्मीर में आतंकी हमले में बलिदान देने वाले जवान धीरेंद्र त्रिपाठी को अंतिम विदाई देने बड़ी संख्या में लोग उमड़ पड़े। सभी भारत माता की जय, धीरेंद्र अमर रहे के जयकारे लगाते रहे।

सतना, बिच्छू डॉट कॉम। जम्मू-कश्मीर में आतंकी हमले में बलिदान देने वाले जवान धीरेंद्र त्रिपाठी को अंतिम विदाई देने बड़ी संख्या में लोग उमड़ पड़े। सभी भारत माता की जय, धीरेंद्र अमर रहे के जयकारे लगाते रहे। सीएम शिवराज सिंह चौहान भी शहीद धीरेंद्र को श्रद्धांजलि देने उनके पैतृक गांव पडिय़ा पहुंचे। सीएम ने धीरेंद्र के परिवार को एक करोड़ रुपए की सम्मान निधि और इसके साथ ही शहीद की पत्नी को सरकारी नौकरी, गांव में शहीद के नाम से स्मारक बनवाने का ऐलान किया। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने कहा कि परिवार की नियमानुसार हर तरह की मदद की जाएगी। उन्होंने कहा कि इस गांव की माटी आज धन्य हो गई है। जहां ऐसे वीर सपूत जन्म लिए। राजकीय सम्मान के साथ करीब 12 बजे बलिदानी का अंतिम संस्कार किया गया। सोमवार को श्रीनगर में सुरक्षाबलों और आतंकियों के बीच मुठभेड़ में सीआरपीएफ के दो जवान शहीद हो गए थे। जिनमें एक धीरेंद्र त्रिपाठी एक थे। शहीद धीरेंद्र अपने माता-पिता के इकलौते पुत्र थे। उनके पिता रामकलेश त्रिपाठी भी सीआरपीएफ के जवान जो कि बालाघाट में पदस्थ हैं।
मौजूद रहे जनप्रतिनिधि व वरिष्ठ अफसर-शहीद को दी श्रद्धांजलि देने के लिए मंत्रीगण, जनप्रतिनिधि, गणमान्य नागरिक और पुलिस, प्रशासन व सीआरपीएफ के वरिष्ठ अधिकारी शामिल हुए। इसमें मंत्री विश्वास सारंग, रामखेलावन पटेल, जनार्दन मिश्रा, राजेन्द्र शुक्ला, विधायक जुगल किशोर बागरी ने भी शहीद को श्रद्धासुमन अर्पित किए। भोपाल से आये सीआरपीएफ के आईजी पीके पांडे ने भी पुष्पांजलि अर्पित की सतना कलेक्टर अजय कटेसरिया, एसपी धर्मवीर सिंह ने भी शहीद को कंधा दिया। इसके साथ ही रीवा से संभागायुक्त, आईजी व रीवा के कलेक्टर, एसपी भी मौजूद रहे।
गार्ड ऑफ ऑनर से दी गई सलामी-तिरंगे में लपटे शहीद जवान के पार्थिव शरीर को लेकर आये सीआरपीएफ जवानों और पुलिस बल ने गार्ड ऑफ ऑनर देकर सलामी दी जिसके बाद उनका अंतिम संस्कार विधि-विधान से गांव में किया गया। इसके बाद मुख्यमंत्री भी रीवा के लिए प्रस्थान कर गए।

Related Articles