वैक्सीन…इंतजार बस कुछ महीनों का

Vaccine… wait just a few months

नगीन बारकिया

जबसे कोरोना वायरस का प्रकोप शुरू हुआ है लगभग तभी से वैक्सीन के बारे में भी सुनते आए हैं कि बस कुछ समय में वैक्सीन तैयार हो जाएगी और हमें इस महामारी से छुटकारा मिल जाएगा। आठ-नौ माह से हम इसका बेसब्री से इंतजार कर रहे हैं। वास्तव में हम यह भी नहीं कह सकते हैं कि आश्वासन झूठमूठ का दिया जा रहा है। सारी परिस्थितियां हमारे सामने है और यह आश्वासन ही है जो हमें धैर्यधारण करने की शक्ति प्रदान करता रहा है। दूर अंधरे में यही तो वह उजाले की किरण है जिसने हमारी हिम्मत को टूटने से बचाया है वर्ना इस महामारी की धमक ही इतनी तेज है कि इसका नाम सुनकर ही कई लोग अधमरे से गए हैं। इसलिए यदि कोई वैक्सीन की तैयारी की खबर सुनाई दे तो उसे सकारात्मक रूप में स्वीकार करें और हौसला बनाए रखें। वैक्सीन की एक नई खबर स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन के हवाले से आई है जिसमें उन्होंने आश्वासन दिया है कि वैक्सीन में अब ज्यादा देर नहीं है और अगले कुछ महीनों में कोविड-19 का टीका होने की उम्मीद है। देश अगले छह महीने में लोगों को टीका उपलब्ध कराने की प्रक्रिया में होना चाहिए। उन्होंने इंडियन रेडक्रॉस सोसाइटी और सेंट जॉन्स एंबुलेंस की वार्षिक आम बैठक में यह टिप्पणी की। स्वास्थ्य मंत्री ने कहा, हम टीके के विकास की प्रक्रिया में काफी गहराई से शामिल हैं…अधिक से अधिक अगले कुछ महीने में हमारे पास टीका होने की उम्मीद है और आशा है कि अगले छह महीने में भारत के लोगों को टीका उपलब्ध कराने की प्रक्रिया में हम होंगे।

कांग्रेस प्रत्याशियों की सूची में रवीशकुमार का भाई भी
बिहार विधानसभा के चुनाव में अब रोज-रोज नए नजारे और बदलते समीकरणों के दर्शन हो रहे हैं। तीन बड़े गठबंधन के बावजूद कई महत्वाकांक्षी नेता या कार्यकर्ता इनमें अपने नाम न पाकर ऐनवक्त पर दल बदलने को मजबूर होना पड़ रहा है। एक तरफ नामांकन भरने का दौर चल रहा है तो दूसरी तरफ नए नए तालमेल भी बनते दिखाई दे रहे हैं। कहीं राजग के घटक आपस में भिड़ रहे हैं तो कहीं संप्रग के घटक नाराजगी दिखा रहे हैं। इस बीच कांग्रेस की जारी नई सूची में एक और चौंकाने वाला नाम ब्रजेश पांडे का है जो सुप्रसिद्ध पत्रकार रवीश कुमार के भाई हैं। कांग्रेस ने उन्हें मोतीहारी के गोविंदराज से उम्मीदवार बनाया है। उल्लेखनीय है कि पांडेय इससे पहले भी चुनाव लड़ चुके हैं, हालांकि उन्हें जीत नहीं मिल पाई थी। वे कांग्रेस में प्रदेश उपाध्यक्ष के पद पर भी रह चुके हैं। वहीं तीन साल पहले ब्रजेश पांडेय का नाम एक विवाद में आया था, जिसके बाद से पार्टी ने उनसे किनारा कर लिया था, लेकिन आज जारी लिस्ट में उनका नाम शामिल है। गोविंदगंज में दूसरे चरण में मतदान है। कांग्रेस द्वारा गुरुवार को 49 सीटों पर प्रत्याशियों का ऐलान किया गया है। जिन लोगों को विधानसभा की सीटों के लिए प्रत्याशी बनाया गया है उसमें पूर्व केंद्रीय मंत्री शरद यादव की बेटी सुभाषिनी और फिल्म अभिनेता व पूर्व केंद्रीय मंत्री शत्रुघ्न सिन्हा के पुत्र लव सिन्हा के भी नाम है। कांग्रेस में बुजुर्ग नेता कृपानाथ पाठक भी टिकट हासिल करने वालों में शामिल हैं।

आज जारी होगा 75 रुपये का स्मृति सिक्का
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी संयुक्त राष्ट्र के खाद्य और कृषि संगठन (एफएओ) की 75वीं वर्षगांठ के अवसर पर आज यानी शुक्रवार को 75 रुपये का स्मृति सिक्का जारी करेंगे। साथ ही वह हाल ही में विकसित की गई आठ फसलों की 17 जैव संवर्धित किस्मों को भी राष्ट्र को समर्पित करेंगे। प्रधानमंत्री कार्यालय की ओर से जारी एक बयान में यह जानकारी दी गई। यह आयोजन इस बात का प्रमाण है कि सरकार कृषि और पोषण को सबसे अधिक प्राथमिकता देती है। साथ ही इससे उसके भुखमरी और कुपोषण के उन्मूलन के संकल्प का भी पता चलता है।

कश्मीर पर अब क्या बोले उमर अब्दुल्ला
जम्मू कश्मीर में डॉक्टर फारूक अब्दुल्ला, उमर अब्दुल्ला, महबूबा मुफ्ती समेत कई नेताओं की रिहाई के बाद सियासी हलचल बढ़ गई है। कोई न कोई कश्मीरी नेता रोज बयान जारी कर कश्मीर को अपने हक की लड़ाई बताने में भी कोई गुरेज नहीं कर रहे हैं। ऐसे ही एक इंटरव्यू में पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला ने कहा कि हम अपने हक की लड़ाई लड़ रहे हैं। फारूक अब्दुल्ला ने मुखर होकर अनुच्छेद-370 के खिलाफ आवाज उठाई थी और आज भी उठा रहे हैं। उमर का कहना है कि केंद्र का फैसला राज्य के लोगों के हित में नहीं है। गुपकार समूह की बैठक पर उमर अब्दुल्ला ने कहा कि यह 4 अगस्त 2019 को शुरू हुआ एक सिलसिला है। आज हम इसे एक उचित नाम, औपचारिक संरचना और एक वाजिब एजेंडा देने के लिए मिले। यह अवसरवादी गठबंधन नहीं है। लेकिन ये राजनीतिक है। इसे सामाजिक गठबंधन नहीं कह सकते। उमर ने कहा कि असंवैधानिक और गैरकानूनी रूप से हमसे जो छीन लिया गया था, उसे वापस पाने का यह एक संवैधानिक और शांतिपूर्ण तरीका है।

Related Articles