ट्रंप को भी चुनावों में धांधली की आशंका…।

नगीन बारकिया

यह पढ़ और सुनकर ही बड़ी ही अजीब सी खबर लगती है कि अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप को अपने यहां हो रहे चुनाव में धांधली होने की आशंका नजर आ रही है। ट्रंप की यह आशंका तब सामने आई जब उन्हें यह कहते हुए दिखाया गया है कि वे चुनाव के बाद सत्ता के शांतिपूर्ण हस्तांतरण के लिए प्रतिबद्ध हैं, बशर्ते चुनाव ईमानदारी से हो। ट्रंप इसके पहले यह कह चुके हैं कि अगर चुनाव में धोखाधड़ी नहीं हुई, तो वे कतई हार नहीं सकते। ट्रंप का यह बयान या तो बहुत गंभीर आरोप है या एकदम बचकाना प्रचार का तरीका। ऐसा लगता है कि यह बयान उन्होंने किसी आशंका के जमीनी रूप धारण करने से पूर्व का बचाव है। वैसे भी शुक्रवार सुबह अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव की एक स्थापित परंपरा टूट गई। अमेरिका में राष्ट्रपति चुनाव के दौरान दोनों प्रमुख पार्टियों के तीन बार आमने-सामने बहस करने की बहुचर्चित परंपरा रही है। लेकिन रिपब्लिकन पार्टी के डोनल्ड ट्रंप ने अपने स्वभाव के अनुरूप मर्यादाओं और परंपराओं का अनादर करते हुए दूसरी बहस में शामिल होने से इंकार कर दिया। पिछले 29 सितंबर को पहली बहस हुई थी। उसमें डेमोक्रेटिक पार्टी के उम्मीदवार जो बिडेन के बोलने के दौरान ट्रंप ने लगातार टोका-टाकी की थी। इसका खराब संदेश गया। ट्रंप की समर्थन रेटिंग में उससे गिरावट आई। उसके बाद ट्रंप कोरोना वायरस से संक्रमित हुए जिसके कारण दूसरी बहस ऑनलाइन यानी वर्चुअल करने का फैसला लिया गया लेकिन ट्रंप ने इसमें हिस्सा लेने से इंकार कर दिया। इस कारण शुक्रवार सुबह दोनों उम्मीदवार अलग-अलग टाउन हॉल कार्यक्रम में शामिल हुए और वहां पूछे गए सवालों के जवाब उन्होंने दिए। इसमें ट्रंप ने एक बार फिर बिना शर्त यह कहने से इंकार कर दिया कि अगर तीन नवंबर को होने वाले चुनाव में वे हार गए, तो वे शांतिपूर्ण ढंग से सत्ता का हस्तांतरण कर देंगे।

बिहार में 12 चुनावी रैलियां करेंगे पीएम मोदी
बिहार में चुनावी बयार ने तेजी पकड़ना शुरू कर दी है। कई सीटों पर नामाकन भरने की प्रक्रिया पूरी हो चुकी है तथा कुछ सीटों पर यह कार्य जारी है। पहले चरण की वोटिंग 28 अक्टूबर को होगी। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का इन चुनावों के लिए दौरा कार्यक्रम जारी हो गया है। वे 23 अक्टूबर को सासाराम से चुनावी रैली का शंखनाद करेंगे। पीएम मोदी चार दिन बिहार आएंगे और कुल 12 रैलियों को संबोधित करेंगे। बिहार बीजेपी के चुनाव प्रभारी देवेन्द्र फड़नवीस ने पीएम मोदी के कार्यक्रम की जानकारी दी। उनके अनुसार 23 अक्टूबर को पहली सभा सासाराम में, दूसरी गया और तीसरी भागलपुर में होगी। 28 अक्टूबर को पहली रैली दरभंगा में, दूसरी रैली मुजफ्फरपुर और तीसरी रैली पटना में होगी। फिर एक नवंबर को पीएम मोदी की पहली रैली छपरा, दूसरी पूर्वी चंपारण और तीसरी रैली समस्तीपुर में होगी। वहीं तीन नवंबर को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की पहली रैली चंपारण दूसरी सहरसा और तीसरी फारबिसगंज में होगी। हर रैली में सीएम नीतीश मंच साझा करेंगे। इसमें एनडीए के सभी प्रत्याशी मौजूद रहेंगे।

यूरोप में कोरोना की वापसी की चेतावनी
कोरोना के रणक्षेत्र से यह चेतावनी भरी खबर आई है कि अब यूरोप में कोरोना वायरस की दूसरी वेब आ सकती है। कोरोना की शुरुआत में भी यूरोप में ही इसकी सबसे भयावह तस्वीर सामने आई थी। जहां कोरोना वायरस से मृत लोगों का अंतिम संस्कार करने में हजारों कब्रों की खुदाई की गई जिसे देखकर दुनिया भर के लोगों को पता चला कि कोरोना कितना भयानक है जिसके चलते अस्पतालों में बेड की कमी हो गई थी। यूरोप के देश चेक गणराज्य में कोरोना वायरस के मामलों में रिकॉर्ड तक पहुचने के बाद वहां के सभी स्कूल को बंद कर दिया है। फ्रांस की राजधानी पेरिस समेत देश के नौ शहरों में रात नौ बजे से सुबह छह बजे तक कर्फ्यू लगाया गया है ताकि लोग घरों से बाहर न निकलें। वहीं, ब्रिटेन में पब ओर बार को बंद किया जा रहा है। इसके लिए खास तरह की गाइडलाइंस जारी की गई है। लोग प्रार्थना कर रहे हैं कि यूरोप में वेब फिर आने की चेतावनी गलत साबित हो।

गैस सिलेंडर के लिए भी ओटीपी होगा जरूरी
हो सकता है कि एक नवंबर से रसोई गैस मिलने के नियम में एक बड़ा बदलाव नजर आए। इसके अनुसार अब किसी भी उपभोक्ता को एलपीजी सिलेंडर बिना ओटीपी के नहीं मिलेगा। होम डिलिवरी के समय एक कोड डिलिवरी ब्वॉय को देना पड़ेगा उस ओटीपी या कोड के बिना अब गैस की होम डिलिवरी नहीं होगी। बताया जाता है कि तेल कंपनियों ने इस नये नियम को लागू करने की पूरी तैयारी कर ली है। इस नए नियम का उद्देश्य गैस की हेराफेरी को रोकना है। ओटीपी नियम लागू हो जाने से गैस की चोरी रोकी जा सकेगी। यह कोड सिस्टम अभी सिर्फ सौ स्मार्ट शहरों में लागू होगा। इसका पायलट प्रोजेक्ट पहले से ही जयपुर में जारी है। नए सिस्टम में उपभोक्ता जब गैस की बुकिंग करेगा तो उसके रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर पर कोड भेजा जायेगा, जिसे डिलिवरी के वक्त उसे डिलिवरी ब्वॉय को देना पड़ेगा अन्यथा गैस की डिलिवरी नहीं होगी। ऐसे में यह जरूरी है कि अगर आपका मोबाइल नंबर रजिस्टर्ड नहीं है, तो उसे जल्दी से अपडेट करा दें अन्यथा एक नवंबर से आपको गैस लेने में परेशानी हो सकती है।

Related Articles