कांग्रेस फिर रोएगी ईवीएम का रोना

राकेश व्यास

प्रदेश के नगरीय विकास एवं आवास मंत्री तथा भाजपा चुनाव प्रबंधन समिति के संयोजक भूपेंद्र सिंह ने कहा है कि कांग्रेस चुनाव नतीजों के बाद ईवीएम का रोना रोने की तैयारी कर रही है। जैसे ही दस नवंबर को उपचुनाव के परिणाम आएंगे कांग्रेस का हर छोटा बड़ा नेता पार्टी की हार का ठीकरा ईवीएम पर फोड़ने लगेगा। किस प्रकार ईवीएम को हार का दोषी बताया जाए, कांग्रेस के नेता अभी से इसकी तैयारी में जुट गए हैं। उन्होंने कहा कि जब-जब चुनावों में कांग्रेस की हार होती है उन्हें ईवीएम में खामियां नजर आने लगती हैं, लेकिन जहां जहां कांग्रेस की जीत होती है वहां उन्हें ईवीएम में कोई दोष नजर नहीं आता। भूपेंद्र सिंह ने तल्ख लहजे में कहा कि अगर कांग्रेस ईमानदारी से हार के कारणों पर मंथन कर उसे स्वीकार करती तो आज पार्टी की स्थिति शायद कुछ बेहतर होती, लेकिन कांग्रेस को अपनी प्रत्येक हार में ईवीएम में ही दोष नजर आता है।

आयु सीमा नहीं बढ़ने से लाखों युवा वंचित
प्रदेश सरकार ने लंबे समय बाद पुलिस की भर्ती निकाली है। इससे करीब चार हजार आरक्षकों के पद भरे जाना है, लेकिन इसकी आयु सीमा नहीं बढ़ने से वर्षों से पुलिस भर्ती की तैयारी कर रहे लाखों अभ्यर्थी बिना मौका मिले ही प्रतियोगिता से बाहर हो जाएंगे। दरअसल, भर्ती निकलने से लाखों युवाओं के चेहरे पर मुस्कान भी आई है, जबकि कई अभ्यर्थी निराश हो गए हैं। अभ्यर्थियों की मांग है कि नियमों के अनुसार आयु सीमा की गणना,अधिकतम आयु में आखरी बार निकाली गई भर्ती के वर्ष (जो कि 2017 है) तब आयु सीमा 33 वर्ष रखी गई थी, इसके बाद चार साल तक भर्ती नहीं निकली। इसलिए 2020 के आखिरी में निकली इस भर्ती में अधिकतम आयु सीमा 37 वर्ष होना चाहिए। लेकिन शासन और पुलिस मुख्यालय ने इस बार भी आयु सीमा 33 वर्ष ही रखी है। उल्लेखनीय है कि इस भर्ती की परीक्षा प्रोफेशनल एक्जामिनेशन बोर्ड करेगा।

मेट्रो के काम में अब आएगी तेजी
पाल में मेट्रो के लिए एम्स से करोंद तक पर्पल रुट के लिए बीयू से चार एकड़ जमीन के अधिग्रहण पर सहमति बन चुकी है। सूत्रों की मानें, तो जमीन अधिग्रहण का काम दिसंबर तक पूरा कर लिया जाएगा। पहला अधिग्रहण एमपी नगर सर्कल में हो रहा है। इधर मेट्रो के काम ने रफ्तार पकड़ ली है और गायत्री मंदिर से सुभाष नगर रूट पर तीसरा गर्डर भी रख दिया है। जल्द ही दो नए और गर्डर लाए जा रहे हैं। जमीन अधिग्रहण में लिए जाने का काम चल रहा है। दरअसल अधिकांश जमीनें सरकारी विभागों के पास ही हैं। मेट्रो के दोनों रूटों के लिए कुल 100 एकड़ सरकारी जमीन का अधिग्रहण किया जाना है। जिसमें पर्पल रूट के लिए 60 और रेड लाइन के लिए 40 एकड़ जमीन का अधिग्रहण किया जाना है। इसमें बड़ा हिस्सा नगर निगम से लिया जाना है। ऐसे में 80 प्रतिशत रूट आसानी से क्लियर हो जाएगा।

अब नोटों पर बिसाहूलाल बेवफा
कांग्रेस से भाजपा में शामिल हुए अनूपपुर के भाजपा प्रत्याशी बिसाहूलाल सिंह को बेवफा बताया जा रहा है। इस संबंध में स्थानीय मतदाताओं को 10 और 20 रुपए के नोट मिल रहे हैं, जिनमें बिसाहूलाल बेवफा जुमला लिखा हुआ है। भाजपा ने इसे राष्ट्रीय मुद्दा का अपमान बताते हुए कांग्रेस के खिलाफ चुनाव आयोग में शिकायत की है। हालांकि कांग्रेस ने इस मामले में अपना पल्ला झाड़ते हुए कहा है कि स्थानीय लोगों द्वारा बिसाहूलाल को बेवफा कहना कोई गलत नहीं है क्योंकि उन्होंने बेवफाई बेवफाई की है।

भाजपा में नेता पुत्रों पर संकट के बादल
दमोह जिले के कांग्रेस विधायक राहुल लोधी के इस्तीफ़ा देकर भाजपा ज्वॉइन करने के बाद अब भाजपा के तीसरे बड़े नेता पुत्र की विधानसभा सीट प्रभावित हुई है। सबसे पहले पूर्व मुख्यमंत्री कैलाश जोशी के बेटे और पूर्व मंत्री दीपक जोशी की सीट से मनोज चौधरी के भाजपा में आने के बाद पार्टी ने उन्हें टिकट दे दिया। इसी तरह पूर्व मंत्री गौरीशंकर शेजवार के बेटे मुदित शेजवार को 2018 के चुनाव में हालांकि टिकट भी मिला लेकिन उन्हें प्रभुराम चौधरी से शिकस्त मिली। वहीं अब प्रभुराम भाजपा के टिकट पर सांची से चुनाव लड़ रहे हैं। यही स्थिति राहुल लोधी के मामले में है। यहां जयंत मलैया के साथ उनके बेटे सिद्धार्थ मलैया की भी टिकट की दावेदारी थी लेकिन राहुल के इस्तीफ़ा देकर भाजपा में शामिल होने से अब इनके भी राजनीतिक भविष्य पर संकट के बादल मंडराने लगे हैं

Related Articles