पांच राज्यों के चुनाव में सिंधिया का उपयोग करेगी भाजपा

प्रणव बजाज

भारतीय जनता पार्टी आने वाले 5 राज्यों राजस्थान, महाराष्ट्र, तमिलनाडु, आंध्रप्रदेश और कर्नाटक के चुनाव में भाजपा सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया का उपयोग करेगी। यही वजह है कि भाजपा का केंद्रीय नेतृत्व चाहता है कि मध्य प्रदेश में सबसे पहले ज्योतिरादित्य सिंधिया को व्यवस्थित किया जाए। नरेंद्र मोदी मंत्रिमंडल में मध्य प्रदेश से फिलहाल छह मंत्री हैं। ज्योतिरादित्य सिंधिया को केंद्रीय कैबिनेट में मंत्री पद देना है या फिर संगठन में कोई प्रमुख पद इस पर फैसला फिलहाल नहीं हो पा रहा है। लेकिन सियासत के जानकारों का मानना है कि सबसे पहले ज्योतिरादित्य सिंधिया का फैसला होगा, उसके बाद उनके समर्थकों के बारे में विचार किया जाएगा। दरअसल प्रदेश में शिवराज मंत्रिमंडल का विस्तार और बीजेपी प्रदेश कार्यकारिणी के गठन का काम रुका हुआ है। इन दोनों में ही देरी हो रही है। जानकारों का यह भी कहना है कि मंत्रिमंडल विस्तार रुकने के पीछे अगर कोई पेंच है तो वह है ज्योतिरादित्य सिंधिया का। बता दें, कि उपचुनाव में के बीच बीजेपी ने प्रदेश महामंत्रियों की नियुक्ति कर दी थी। उस दौरान सिंधिया समर्थकों को किसी तरह की तरजीह नहीं दी गई थी, लेकिन उपचुनाव में बेहतर प्रदर्शन के बाद सिंधिया पूरा हिसाब करने के मूड में है और उपाध्यक्ष पद पर अपनों को एडजस्ट कराने की कोशिश में लगे हुए हैं। इसके लिए सिंधिया ने चार नाम आगे भी पढ़ा दिए हैं।

एडीजी अजय शर्मा ने समन्वय से खोजा समाधान
कोरोना काल में भी योजनाओं के काम न रुकें इसके लिए एडीजी अजय शर्मा मुख्यालय के माध्यम से वित्त और प्रशासन शाखा से समन्वय बनाकर हल खोज लिया। दरअसल पुलिस हाउसिंग कारपोरेशन में एमडी की जिम्मेदारी संभालने के समय एडीजी अजय शर्मा के सामने सबसे बड़ी समस्या बजट की थी। पुरानी सरकार ने कारपोरेशन का बजट हटा दिया था। पुराने निर्माण कार्यों की 200 करोड़ राशि बकाया थी। वहीं नए निर्माण कार्यों के लिए राशि नहीं थी। ऐसे में शर्मा ने गृहमंत्री डॉ नरोत्तम मिश्रा और डीजीपी विवेक जौहरी के सामने कारपोरेशन की नवीन योजनाएं और समस्याओं के संबंध में अपना पक्ष रखा। चूंकि कोरोना की वजह से लगे लॉकडाउन के कारण राज्य सरकार की आर्थिक स्थिति ठीक नहीं थी, लेकिन एडीजी शर्मा के प्रयासों से कॉरपोरेशन के निर्माण कार्य एक बार फिर से गति पर आ गए हैं। पौने दो सौ करोड़ की राशि मिल चुकी है और बाकी राशि मिलना है।

सरकार का जनप्रतिनिधियों से व्यवहार ठीक नहीं
आगर से कांग्रेस विधायक विपिन वानखेड़े पर एफआईआर दर्ज किए जाने को लेकर पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने ट्वीट कर भाजपा सरकार को घेरा है। दरअसल पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने ट्वीट किया है कि प्रदेश में भाजपा की सरकार आते ही आमजन किसानों पर भारी भरकम बिजली बिलों की मार डाली जा रही है। हमारे ब्लॉक अध्यक्ष व आगर विधायक द्वारा किसानों की इस परेशानी को उठाने पर उनके ऊपर झूठे प्रकरण दर्ज किए गए। यही नहीं सरकार द्वारा जनप्रतिनिधियों से भी अपराधी की तरह व्यवहार किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि दमनकारी रवैए पर कांग्रेस चुप नहीं बैठेगी।

कोरोना से होटल व रेस्टोरेंट सेक्टर चिंतित
प्रदेश में कोरोना का असर फिर से दिखने लगा है। इसकी वजह से होटल सेक्टर में चिंताएं बढ़ गई हैं। हालांकि टूरिज्म इंडस्ट्री में कहीं पर 80 फीसदी रिकवरी तो कहीं पर 80% गिरावट दर्ज हुई है। पर्यटन उद्योग को लेकर कहा जा रहा है कि इसकी ग्रोथ बढ़ेगी जबकि होटल सेक्टर चिंतित है। खासतौर से इंदौर के आठ और भोपाल में दस बजे के बाद होटल रेस्टोरेंट और शादी हॉल बंद कराने के जिला प्रशासन के फैसले पर व्यापारियों में नाराजगी है। पंचमढ़ी, सांची सहित अनेक पर्यटन स्थलों पर पिछले तीन महीने में पर्यटकों का पहुंचना जारी है। वही निजी रेस्टोरेंट और शादी हॉल का बिजनेस अचानक चौपट हो गया है, कोरौना की नई गाइडलाइन के बाद पिछले एक सप्ताह के दौरान रेस्टोरेंट और शादी हॉल की बुकिंग बड़े स्तर पर रद्द हो रही है।

Related Articles