बिहाइंड द कर्टन/भाजपा नेता रघुनंदन शर्मा बोले पार्टी का मूल चरित्र गौण न हो

– प्रणव बजाज

रघुनंदन शर्मा

भाजपा नेता रघुनंदन शर्मा बोले पार्टी का मूल चरित्र गौण न हो
प्रदेश भर में मंगलवार को भाजपा ने अपना 41वां स्थापना दिवस बनाया। भाजपा के वरिष्ठ नेता रघुनंदन शर्मा ने इस मौके पर भाजपा की फर्श से अर्श तक के संघर्ष की कहानी बताई। उन्होंने कहा कि तब का समय ऐसा था कि कोई संसाधन नहीं होते थे। संघर्ष ज्यादा था, लेकिन जोश और संयम भी उतना ही। भाजपा की नींव में कुशाभाऊ ठाकरे, प्यारेलाल खंडेलवाल और नारायण दास गुप्ता को भुलाया नहीं जा सकता। प्यारेलाल जी के साथ सौ गांवों में तो खुद साइकिल से घूमा। सुबह निकलते थे तो रात कब होती पता नहीं होता। दो जोड़ी कपड़े प्यारे लाल जी साथ रखते थे। उन्होंने साइकिल से चुनाव लड़े फिर मोटरसाइकिल और फिर जीप से। भाजपा काडर बेस पार्टी थी। अब धीरे-धीरे मास बेस बन रही है। कई विचारधाराओं के लोग भाजपा में आए। आना भी चाहिए क्योंकि बहाव व नई आमद बने रहना चाहिए। बस पार्टी का मूल चरित्र गौण ना हो।

दिग्विजय बोले-अमित शाह को मप्र के जंगलों की चिंता क्यों नहीं!
प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और राज्यसभा सांसद दिग्विजय सिंह ने कहा है कि  प्रदेश के गृहमंत्री अमित शाह को मध्यप्रदेश के जंगलों में लगी आग की चिंता नहीं है बल्कि उन्हें सिर्फ उत्तराखंड के जंगल दिख रहे हैं। मध्य प्रदेश के 6 फॉरेस्ट रेंज पिछले 60 घंटे से आग में झुलस रहे हैं और करीब 105 वर्ग मीटर जंगल में आग फैल चुकी है लेकिन गृह मंत्री अमित शाह उत्तराखंड के जंगलों में लगी आग से जितने चिंतित हैं उतने वे मध्य प्रदेश के फॉरेस्ट रेंज में लगी आग से चिंतित नहीं है। वहीं उन्होंने प्रदेश सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि मध्यप्रदेश सरकार ने जंगल में आग फैलने से रोकने के लिए तैनात वन कर्मियों के पद ही समाप्त कर दिए जिसके कारण आग पर नियंत्रण नहीं किया जा सका।

दमोह में वीडी की तर्ज पर कमलनाथ ने भी जमाए जातिगत समीकरण
दमोह उपचुनाव में भाजपा प्रदेशाध्यक्ष वीडी शर्मा के जातिगत समीकरणों को टक्कर देने के लिए कांग्रेस ने वीडी के पैटर्न पर ही योजना तैयार की है। इसके तहत जातिगत वोटरों को लुभाने के लिए कांग्रेस नेताओं को अलग-अलग सेक्टरों पर जिम्मेदारियां सौंपी गई है। दरअसल कमलनाथ ने चुनावी जमावट में सबसे ज्यादा फोकस लोधी, जैन, ब्राह्मण, कुर्मी और आदिवासी वोटरों को लुभाने पर किया गया है। कांग्रेस ने यहां पर पूर्व मंत्री लखन घनघोरिया, सज्जन सिंह वर्मा, कमलेश्वर पटेल, कांतिलाल भूरिया, मुकेश नायक, राजा पटेरिया, राम सिया भारती, साधना भारती, प्रताप लोधी, निशंक जैन और जिला अध्यक्ष मनु मिश्रा को लगाया है।

दिलफेंक शौक से स्टाफ की बढ़ने लगी परेशानी
वैसे तो अफसर और मंत्रियों के शौक  हमेशा ही चर्चाओं में रहते हैं लेकिन जहां किसी सरकारी सामान पर ही मंत्री का दिल आ जाए तो फिर कहने ही क्या हैं। ऐसी परिस्थिति में वे सरकारी माल पर अपना निजी अधिकार समझते हैं। हाल के दिनों में चार इमली स्थित एक गेस्ट हाउस में रखा कटंगी बांस का खूबसूरत सोफा गायब होने की चर्चा जोरों पर है। यहां आने वाले लोगों को सोफे पर बैठने की आदत है इसलिए सोफे की खाली जगह को ज्यादा देर तक छिपाया नहीं जा सका। जब किसी से सोफे के बारे में पूछा गया तो पता चला कि सोफे पर मंत्री जी का दिल आ गया था। हालांकि ऐसे कारनामे वे पूर्व में भी कर चुके हैं। दरअसल अब तो विभाग का स्टाफ भी उनके इस दिलफेंक शौक से परेशान होने लगा है।

Related Articles