नीलम रत्न धारण करने से पहले इन बातों को जरूरी जानें

Know these things important before wearing the sapphire gem

बिच्छू डॉट कॉम। नीलम शनि का रत्न है। ज्योतिषियों की मानें तो वृष, मिथुन, कन्या, तुला, मकर और कुंभ लग्न वालों को यह बेहद शुभ फल देता है। नीलम रत्न को पहनने से पहले कुछ बातों का जानना बेहद जरूरी है। इसके अलावा उन बातों को भी जानना जरूरी है जिसे पता चलता है कि नीलम असली है या नकली। ज्योतिष में कहा जाता है कि नीलम के शुभ अशुभ परिणामों को देखकर ही इसे धारण करना चाहिए। इसके अलावा इसे पहनने का भी एक नियम है। यहां हम आपको बता रहे हैं नीलम रत्न से जुड़ी कुछ ऐसी ही बातें……

क्या है पहचान
ज्योतिष की मानें तो असली नीलम वह होता है जो छूने पर मुलायम लगे और यह चिकना होता है। इसमें धारियां भी होती हैं और इसमें सेकुछ किरणें भी निकलती हैं। अगर किसी छोटे से रेशे या तिनके को इसके पास लाया जाए तो वह तिनका उससे चिपक जाता है।

कैसे पहचानें शुभ फल देगा या अशुभ फल
ज्योतिषियों की मानें तो अगर नीलम रत्न को नीले कपड़े में बांध कर तकिए के नीचे रखना चाहिए। अगर इस दौरान आपको सोते समय अच्छे सपने आते हैं तो यह आपको शुभ फल देने वाला है और अगर इस दौरान आपके साथ बुरा होने लगे तो समझ जाएं कि यह आपको अशुभ फल देने वाला है।

पहनने के क्या है नियम
ज्योतिषियों के अनुसार पहनने के लिए नीलम कम से कम पांच रत्ती का होना चाहिए। नीलम रत्न को शुक्लपक्ष में शनिवार के दिन पंचधातु या चांदी की अंगूठी में शाम से पहले अपने दाहिने हाथ की मध्यमा उंगली में पहनना चाहिए।

Related Articles